Jalti reti pa jise paun ke chale roye

जलती रेती पा जिसे पाऊं के छाले रोए
चल बसा आज उसे चाहने वाले रोए

ज़ख़्मी अकबर का जिगर और अली असग़र का गाला
रन में देखा ना गया बरछियाँ भाले रोए

ले तो आयी है इमामत को बचा कर ज़ैनब
बे रिदा कैसे भला सबको संभाले रोए

ना तवानी है यतीमी है लुटा कुनबा है
हाय सज्जाद भला कैसे संभाले रोए

बेड़िया पाऊं में और तौके गरां गर्दन में
कैसे तलवों में चुभे काटे निकाले रोए

शिमर ने मारे तमाचे जो सकीना के कभी
हाय बेबस है खड़ा कैसे बचा ले रोए

ऐसा तरीक हुआ फातिमा ज़ेहरा का चमन
आयी जब शामे ग़रीबां तो उजाले रोए

मर गई शाम के ज़िन्दाँ मैं सकीना जो ज़ुहैर
कैसे दफ्नाऊंगा मैं करके ये नाले रोए


Jalti reti pa jise paun ke chale roye
Chal bas aaj use chahne wale roye

Zakhmi akbar ka jigar aur ali asghar ka gala
Ran main dekha na gaya barchiyan bhale roye

Le to aayi hai imamat ko bacha kar zainab
Be Rida Kaise bhala sabko sambhale roye

Na tawani hai Yateemi hai Luta Kunba hai
Haye sajjad bhala kaise sambhale roye

Bhediya paun main aur tauqe garan gardan main
kaise talvon main chubhe katen nikale roye

Shimr ne mare tamache jo sakeena ke kabhi
Haye Be bas hai khada kaise bachale roye

Aisa tareek hua Fatima zehra ka chaman
Aayi jab shaame ghareeban to ujale roye

Mar gayi sham ke zindaan main sakeena jo zuhair
Kaise Dafnaunga main kar ke nale roye

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *